Indian Railways का यात्रियों को बडा तोहफा, रेलवे ने शुरू की ये खास सुविधा

0
157
Indian Railways

Indian Railways दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। इसमें प्रतिदिन करोड़ों यात्री सफर करते हैं। देश में लंबी दूरी की यात्रा करने के लिए भारतीय रेलवे लोगों की पहली पसंद हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे लगातार यात्री सुविधा में सुधार और बढोतरी कर रहा हैं। पिछले कुछ वर्षों में रेलवे ने यात्री सुविधा के लिए बहुत बडे़ बड़े परिवर्तन किए हैं।

Indian Railways लगातार AC डिब्बों में वृद्धि कर रहा हैं। इसके साथ साथ भारतीय रेलवे द्वारा चलाई जानेवाली आधुनिक ट्रेनें जैसे बंदे भारत एक्सप्रेस, तेजस एक्सप्रेस और भी कई सारे ट्रेन में सिर्फ AC डिब्बे ही लगे हैं।

इन AC डिब्बों में AC ऑपरेट करने के लिए और लोगों को कंबल बाटने के लिए रेलवे द्वारा कोच अटेंडेंट, AC ऑपरेटर और मैकेनिक नियुक्त किए गए हैं। परंतु सफर के दौरान यात्रियों को इन्हें ढूंढने में बहुत परेशानी होती हैं। इसलिए रेलवे ने कोच अटेंडेंट, AC ऑपरेटर और मैकेनिक के ड्रेस कोड बदलने का निर्णय किया है।

Indian Railways के कोच अटेंडेंट, AC ऑपरेटर और मैकेनिक के ड्रेस कोड में होगा बदलाव

Indian Railways द्वारा AC डिब्बों में AC ऑपरेट करने के लिए और लोगों को कंबल बाटने के लिए कोच अटेंडेंट, AC ऑपरेटर और मैकेनिक नियुक्त किए जाते हैं। परंतु सफर के दौरान यात्रियों को इन्हें ढूंढने में बहुत परेशानी होती हैं। इसलिए रेलवे ने कोच अटेंडेंट, AC ऑपरेटर और मैकेनिक के ड्रेस कोड बदलने का निर्णय किया है।

ऑन बोर्ड लिनेन वितरण (OBLD) कर्मचारियों को नए ड्रेस कोड के अनुसार नीले रंग का ड्रेस और नारंगी जैकेट पहनना होगा। जिससे यात्री इनको आसानी से पहचान सकते है। इनके जैकेट पर बेडरोल और AC लिखा होगा। इसके अलावा इस नई व्यवस्था के अनुसार इन कर्मचारियों की उपस्थिति GPS कैमरे द्वारा दर्ज होगी।

वाराणसी में शुरू हुई ये व्यवस्था

वर्तमान में इस नई ड्रेस कोड व्यवस्था को Indian Railways के वाराणसी मंडल में शुरू किया गया हैं। इस पर मिले फीडबैक के आधार पर इस नई व्यवस्था को अन्य जगहों पर भी शुरू किया जाएगा।

ताजा समाचार: Motorola ने लॉन्च किया अपना धाकड़ स्मार्टफोन, केवल 10 मिनट चार्ज करके भी दिनभर चला सकते हैं ये फोन, जानें कीमत

माँ नर्मदा के तट पर मिनी महाकुंभ का भव्य पेशवाई के साथ हुआ आगाज, 5 हजार से अधिक संत होंगे शामिल, 24 से 30 मई तक चलेगा महाकुंभ