NASA ने दी जापान के ISpace संगठन को ऐसी जानकारी, जानकर सब हुए हैरान

0
71
Ispace

Moon Lander Crash: जापानी प्राइवेट संगठन Ispace ने एक मून लैंडर पिछले महीने भेजा था जो की लैंडिंग से पहले ही क्रैश हो गया । नासा के लुनार रिकांसंस ऑर्बिटर LRO ने उस जगह की तस्वीरे अब Ispace के साथ सांझा की है जिस जगह पर मून लैंडर क्रैश हुआ था।

ISpace ने भेजा एक मून लैंडर

Ispace जापान की एक जानीमानी प्राइवेट कंपनी है जो की अंतरिक्ष में अपने सेटेलाइट्स आदि भेजती है। हाल ही में अप्रैल के महीने में इस संगठन ने चांद पर अपना मून लैंडर भेजा था । इस मिशन में यह संगठन काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहा था परंतु इस मिशन को सफल नहीं कर सका।

मिशन अंत तक तो ठीक चल रहा था परंतु जब लैंडिंग का समय आया तो मून लैंडर की ठीक से लैंडिंग नहीं हो पाई। पहले लैंडर 6000 kmph की रफ्तार से लैंडिंग के लिए आगे बढ़ रहा था जिसे धीरे धीरे कम कर 0 kmph की रफ्तार में लाना था।

सॉफ्ट लैंडिंग की प्रक्रिया चल ही रही थी की इतने में ही Ispace की ग्राउंड टीम का लैंडर से संपर्क टूट गया और लैंडर और रोवर दोनो ही सॉफ्ट लैंडिंग न हो पाने की वजह से क्रैश हो गए। उसके बाद से उस लैंडर का कोई पता नहीं चल पाया था।

NASA के ऑर्बिटर में कैद हुई मलबे की तस्वीरे

अभी हाल ही में 25 अप्रैल को जापान की एक निजी संगठन द्वारा भेजा गया मून लैंडर और रोवर राशिद के क्रैश होने की खबर मिली थी। इस रोवर तथा लैंडर के मलबे की तस्वीरे नासा के ऑर्बिटर LRO ने कैद की है।

LRO की रिसर्च टीम ने अपनी रिपोर्ट ने यह बताया की उन्हे चांद की खाली सतह पर लैंडर के मलबे में लैंडर के चार टुकड़ों की तस्वीरे मिली है । इन तस्वीरों को नासा ने Ispace के साथ सांझा भी किया। ऐसा दुसरी बार हुआ था की किसी निजी कंपनी ने अंतरिक्ष में चांद पर अपना लैंडर भेजने का प्रयास किया ।

ताजा समाचार : New Parliament: 28 मई को होने वाला है नए संसद भवन का उद्घाटन, जानें कैसा है भारत का नया संसद भवन

लाड़ली बहना योजना : रिजेक्ट फॉर्म की सूची हुई जारी, इस तरह चेक अपना नाम