Indian Railways के पैसेंजर ट्रेनों में अधिकतम 24 डिब्बे ही क्यों होते हैं, वजह जानकर लोग हुए हैरान

0
323
Indian Railways

Indian Railways दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। इसमें प्रति-दिन करोड़ों लोग सफर करते हैं। देश में लंबी दूरी की यात्रा करने के लिए भारतीय रेलवे लोगों की पहली पसंद हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे कई प्रकार के ट्रेनें चलाता है। इन सभी ट्रेनों में अनेक प्रकार के कोच पाए जाते है।

लेकिन कितनी भी भीड़ क्यों न हो Indian Railways के पैसेंजर ट्रेनों में अधिकतम डिब्बों की संख्या 24 ही होती हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि ट्रेन में अधिकतम डिब्बों की संख्या 24 क्यों होती हैं? कुछ लोग सोचते हैं कि इंजन की क्षमता 24 डिब्बों को चलाने की ही होती है। पर ऐसा नहीं है, इसके पीछे का कारण आज हम आपको बताने वाले हैं।

Indian Railways के पैसेंजर ट्रेनों में इस कारण अधिकतम 24 डिब्बे होते हैं

Indian Railways के पैसेंजर ट्रेनों में अधिकतम 24 ट्रेनों का ही उपयोग किया जाता हैं। कुछ लोग सोचते हैं कि इंजन की क्षमता 24 डिब्बों को चलाने की ही होती है। ऐसा इंजन की क्षमता के कारण नहीं किया जाता हैं।

कई बार ऐसा होता हैं कि एक ही समय में दो ट्रेनें एक ही समय पर एक ही ट्रैक पर आ जाती हैं उस समय एक ट्रेन को लूप लाइन में भेजकर दूसरी ट्रेन को रास्ता दिया जाता हैं। यदि ट्रेनों की लंबाई बढ़ा दी जाए तो यह ट्रेनें लूप लाइन में नहीं जा पाएगी।

क्या होती हैं लूप लाइन

लूप लाइन को ट्रेन के रुकने के लिए बनाया जाता हैं। इसे स्टेशन के पास बनाया जाता हैं। यदि किसी ट्रेन को रास्ता देना हो तो इस लाइन का प्रयोग किया जाता हैं। इस लाइन की लंबाई 650 मीटर से 750 मीटर तक की होती है। ट्रेन के एक डिब्बे की लंबाई 25 मीटर की होती हैं। ट्रेन लूप लाइन में जा सके इसलिए पैसेंजर ट्रेन में अधिकतम 24 डिब्बों का प्रयोग किया जाता हैं।

ताजा समाचार: आंगनवा‌डी कार्यकत्रियों को मुख्यमंत्री ने दी सौगात, अब मिलेंगे 13 हजार

मध्य प्रदेश में बढ़ी स्कूलों की छुट्टियां, जानें कब तक बंद रहेंगे स्कूल