95000 लोगों के साथ हुआ UPI फ्रॉड, रखें इन बातों का ध्यान, नहीं तो अकाउंट हो जाएगा खाली

0
166
UPI

UPI पेमेंट सिस्टम आने के बाद से ही भारत में डिजिटल पेमेंट तेजी से बढ़ा है। क्योंकि UPI पेमेंट तुरंत और आसानी से होता है इसलिए लोग Paytm, PhonePe, GPay जैसे ऐप का उपयोग करके डिजिटल ट्रांजैक्शन कर रहे हैं। जैसे जैसे UPI पेमेंट में बढ़ोतरी हो रही हैं वैसे वैसे इससे जुड़े फ्रॉड में भी वृद्धि हो रही है।

सरकारी डेटा के अनुसार पिछले वित्त वर्ष 95 हजार से अधिक यूपीआई के माध्यम से धोखाधड़ी हुई हैं। जिनकी संख्या वर्ष 2021-2022 मे 84 हजार थी, और 2020-2021 में 77 हजार थी। कुछ बातों का ध्यान रखकर हम इन फ्रॉड से बच सकते हैं।

बढ़ रहें हैं UPI फ्रॉड के मामले

UPI के आने के बाद से देश में डिजिटल ट्रांजैक्शन में काफी बढ़ोतरी हुई हैं। लोग कैश का कम से कम उपयोग करके यूपीआई से पेमेंट कर रहे हैं। इसके साथ साथ यूपीआई से होनेवाले धोखाधड़ी के मामलों में भी तेजी से बढ़ोतरी हुई हैं।

सरकारी डेटा के अनुसार पिछले वित्त वर्ष में 95 हजार से अधिक यूपीआई के माध्यम से धोखाधड़ी हुई हैं। जिनकी संख्या वर्ष 2021-2022 मे 84 हजार थी, और 2020-2021 में 77 हजार थी। इसमें लगातार वृद्धि हो रही हैं।

बचने के लिए फोलो करें ये उपाय

कुछ ऐसे उपाय है जिन्हें अपनाकर हम इन फ्रॉड से बच सकते हैं। कभी भी अपना UPI पिन किसी के भी साथ शेयर न करें। समय समय पर अपने पिन को बदलना चाहिए। कभी भी किसी अनजान लिंक पर क्लिक न करे।

यदि आपको पैसे प्राप्त करने है तो आपको पिन डालने की कोई आवश्यकता नहीं होती तो पैसे प्राप्त करने के लिए कभी पिन न डाले। कभी भी पैसे प्राप्त करने के लिए QR कोड स्कैन करने की आवश्यकता नहीं होती हैं। इसलिए कभी भी पैसे प्राप्त करने के लिए QR कोड स्कैन न करें। ऐसी ही कुछ सावधानियां को बरतकर हम UPI फ्रॉड का शिकार बनने से बच सकते है।

ताजा समाचार: केंद्रीय कर्मचारियों के वेतन में होगी जबरदस्त बढ़ोतरी, केंद्र सरकार DA को लेकर करने वाली है ये बड़ा फैसला

दुल्हन लाने के लिए तैयार हो रहा था राजकमल, तभी अचानक कुछ हुए ऐसा कि घर में मच गई चीख पुकार